'google658fd05d77029796.html' Nazar | The Original Poetry


तेरे नाम को सजदे पे सजाया हुआ है 
तन्हाइयों से दामन को समेटा हुआ है
ऐ इश्क़ के खुदा, ज़रा इधर भी नज़र कर ले

तेरी खुशबू को रूह में बसाया हुआ है
इस बेरुखी को गले से लगाया हुआ है
ऐ गुज़रती हवा, तू रुख इधर कर ले

फिर तन्हाइयों से दामन को लपेटे पाया है
खुद को आज फिर ग़म समेटे पाया है
ऐ जान-ए-अदा, तू कम सितम कर ले

मोहताज हो गया है सूनापन प्यार की चाह में
दिन गुज़र भी जाते ग़र रातें न होती राह में
ऐ दीवानी वफ़ा, कुछ तो शर्म कर ले

गुज़रती रही उस राह से हर रोज़ मैं
निकलती रही मेरी हर रज़ा बस अफ़सोस में
ऐ मेरे दिल की दुआ, बस कर ख़तम कर ले

सोनिया विश्वकर्मा 



tere naam ko sajde pe sajaya hua hai
tanhaiyon se daaman ko sameta hua hai
ae ishq ke khuda, zara idhar bhi nazar kar le

teri khushboo ko rooh mein basaya hua hai
iss berukhi ko gale se lagaya hua hai
ae guzarti hawa, tu rukh idhar kar le

fir tanhaiyon se daaman ko lapete paya hai
khud ko aaj fir gham samete paya hai
ae jaan-e-adaa, tu kam sitam kar le

mohtaz ho gaya hai soonapan pyar ki chah mein
din guzar bhi jaate gar raatein na hoti raah mein
ae diwani wafa, kuch to sharam kar le

guzarti rahi uss raah se har roz main
nikalti rahi meri har raza bus afsos mein
ae mere dil ki dua, bus kar khatam kar le

A poem by Soniya Vishwakarma

Categories:

6 Responses so far.

  1. वाह ... क्या बात है ...
    आप अगर देवनागरी में लिखें तो उर भी मज़ा आएगा पढ़ने का ...

  2. Unknown says:

    Very nice indeed!! :) Waiting for many many more awesome ones! :)

Leave a Reply

    Follow by Email

    Attribution

    Have a great time!

    Total Pageviews