'google658fd05d77029796.html' Aadha Ishq | The Original Poetry



इश्क़ की रिवायत कुछ यूँ निभा बैठे
हम उसके उन्स में दामन जला बैठे 
भर के अश्क़ जब मांगी मेरे यार ने रज़ा,
हम उसी को भूल जाने की क़सम खा बैठे

कि क़ुरबतों की कब्र भर के आया था
वो क़यामत का सफर कर के आया था
कश्ती यूँ गुज़री कुछ गर्दिश के मोड़ से,
बेअदब हर भंवर पे मर के आया था

शबनम की कोख पर आशियाने नहीं बनते
ख़ंजर की नोक पर मैख़ाने नहीं बनते
होता यूँ इल्म जो अंजाम-ए-इश्क़ का,
दुष्वार-ए-दौर में दीवाने नहीं बनते

नासाज़ सी नज़्म से नग़मा चुराएं क्या
बेज़ार सी बज़्म से बाज़ी लगाएं क्या
लाख लहज़ों में लिख भी लें अल्फ़ाज़ मग़र,
जनाज़ा-ए-वक्त को जुमला थमाएं क्या

न जाने किस कैफ़ियत, किस हालात में होगा
शायद वो भी मेरी फ़िक्र में, फ़िराक में होगा
दफ़्न सीने में कर के दूर मुझसे निकला था,
जल रहा अब भी उसी इश्क़-ए-तब-ओ-ताब में होगा

उसके मसले मेरे मसलों से मुख़्तलिफ़ रहे होंगे
न जाने कितने रंज-ओ-ग़म उसने तकिये से कहे होंगे
हमें ग़म है तो बस उसकी पथराई आँख का,
वो पत्थर टूट कर हर बार उसके रुख़सार पर पड़े होंगे

जो मयस्सर न हुई, उस नादानी का क्या करें
वो ज़िक्र भी नहीं करता, हम क़ुर्बानी का क्या करें
कोई सनम की ख़ैरियत की ख़बर ही दे दे,
हम बे-फ़ज़ूल की बदनामी का क्या करें

बुझे दीपक को ही नूर-ए-आफ़ताब कह देंगे
कोरे कागज़ को हम किस्मत की किताब कह देंगे
तो क्या हुआ जो आइना हमसे रूठ गया,
हम टूटे कांच को भी पूनम का चाँद कह देंगे

मेरे फ़लक पे फ़ानूस बन के छाया तो कर
ख़यालात-ए-फर्श पर यूँ ही कभी आया तो कर
मुद्दत हुई तेरी मशरूफ़ियत को मशहूर हुए,
ख्वाबों में ही सही, महज़ दो पल कभी ज़ाया तो कर

ख़ुश्क लब तिशनगी पर आमादा तो हैं
दूर रहने का ही सही, मग़र वादा तो है
उधेड़-बुन में यूँ ही कभी ये बात उठी,
इश्क़ पूरा न सही, इश्क़ आधा तो है


The course of true love never did run smooth.
                        
                       - William Shakespeare







ishq ki riwaayat kuch yun nibhaa baithe
hum uske uns mein daaman jala baithe
bhar ke ashq jab maangi mere yar ne razaa,
hum usi ko bhul jane ki kasam kha baithe

ki qurbaton ki kabra bhar ke aaya tha
wo qayamat ka safar kar ke aaya tha
kashti yun guzri kuch gardish ke mod se,
be-adab har bhanwar pe mar ke aaya tha

shabnam ki kokh par ashiyane nahi bante
khanjar ki nok par maikhaane nahi bante
hota yun ilm jo anjaam-e-ishq ka,
dushwar-e-daur mein deewane na bante

naasaaz si nazm se naghma churayein kya
bezaar si bazm se baazi lagayein kya
lakh lehzon mein likh bhi lein alfaaz magar,
janaaza-e-waqt ko jumlah thamayein kya

na jane kis kaifiyat, kis halaat me hoga
shayad wo bhi meri fikra me, firaaq me hoga
dafn seene me karke door mujhse nikla tha,
jal raha ab bhi usi ishq-e-tab-o-taab me hoga

uske masle mere maslon se mukhtalif rahe honge
na jane kitne ranj-o-gham usne takiye se kahe honge
humein gham hai to bus uski pathrayi aankh ka,
wo patthar toot kar har baar uske rukhsar par pade honge

jo mayassar na hui, uss naadani ka kya karein
wo zikra bhi nahi karta, hum qurbaani ka kya karein
koi sanam ki khairiyat ki khabar hi de de,
hum be-fazool ki badnami ka kya karein

bujhe deepak ko hi noor-e-aftab keh denge
kore kaagaz ko hum kismat ki kitab keh denge
to kya hua jo aaina humse rooth gaya,
hum toote kaanch ko bhi poonam ka chand keh denge

mere falaq pe fanoos ban ke chhaya to kar
khayalat-e-farsh par yun hi kabhi aaya to kar
muddat hui teri mashroofiyat ko mashhoor hue,
khwabon me hi sahi, mehez do pal kabhi zaaya to kar

khushq labb tishnagi par aamada to hain
door rehne ka hi sahi, magar waada to hai
udhed-bun me yun hi kabhi ye baat uthi,
ishq poora na sahi, ishq aadha to hai

A poem by Deepak Kripal

One Response so far.

Leave a Reply

    Follow by Email

    Attribution

    Total Pageviews